in

अमेरिका के लिए डेयरी-पोल्ट्री बाजार खोलने की तैयारी, राष्ट्रपति ट्रंप की यात्रा से पहले कवायद


अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप
– फोटो : ANI

ख़बर सुनें

चिकन लेग पर टैरिफ (आयात शुल्क) 100% से घटाकर 25% कर दिया गया है लेकिन अमेरिका इसे 10% कराने की कोशिश में है। वहीं, डेयरी उत्पादों के लिए 5% शुल्क और कारोबारी सीमा के साथ भारतीय बाजार खोलने की तैयारी है। हालांकि, सबसे बड़े दुग्ध उत्पादक भारत में डेयरी उत्पादों के आयात पर रोक है, क्योंकि इससे आठ करोड़ ग्रामीण परिवारों की आजीविका जुड़ी है।

सूत्रों ने बताया, सरकार अमेरिकी मोटरसाइकिल कंपनी हार्ले-डेविडसन पर भी आयात शुल्कों पर 50 फीसदी कटौती करने जा रही है। हार्ले पर टैरिफ को लेकर ही ट्रंप ने भारत को ‘टैरिफ किंग’ करार दिया था। आयात शुल्कों में कटौती और अन्य छूट के बाद भारत को उम्मीद है कि अमेरिका विशेष व्यापार दर्जा बहाल कर सकता है, जिसे पिछले साल ट्रंप ने निलंबित कर दिया था। सूत्रों का कहना है कि व्यापार मुद्दे पर दोनों के बीच आई ‘दूरियों’ को ट्रंप के दौरे से पहले मिटाने की कोशिश की जा रही है। एजेंसी

एक-दूसरे से क्या चाहते हैं दोनों देश
आयात शुल्कों में कटौती कर भारत बदले में स्टील और एलुमिनियम उत्पादों पर शुल्कों में छूट चाह रहा है। भारत जीएसपी के तहत निर्यात फायदे की बहाली की उम्मीद भी लगा रहा है। कृषि, ऑटोमोबाइल, ऑटोमोबाइल कंपोनेंट और इंजीनियरिंग क्षेत्र के उत्पादों की अमेरिकी बाजार में अधिक पहुंच की मांग रखी जा रही है। वहीं, अमेरिका भारत में खेती, विनिर्माण, डेयरी उत्पाद, मेडिकल उपकरण और डाटा स्थानीयकरण की बाजार में पहुंच हासिल करना चाहता है। अमेरिका ने व्यापार घाटे को कम करने की मंशा भी जताई है।  

  • अमेरिकी चिकन लेग पर आयात शुल्क घटाकर किया 25%
  • डेयरी उत्पादों पर 5% शुल्क के साथ सीमित आयात का प्रस्ताव
  • हार्ले डेविडसन पर सीमा शुल्क 50% घटाया जा सकता है
  • 08 करोड़ लोग जुड़े हैं डेयरी उद्योग से…इसीलिए आयात पर है रोक
कम हुआ व्यापार घाटा
2018-19 में 52.4 अरब डॉलर का निर्यात तो 35.5 अरब डॉलर का आयात हुआ। 2017-18 में व्यापार घाटा 21.3 अरब डॉलर था, जो 2018-19 में घटकर 16.9 अरब डॉलर हो गया। अमेरिका से 2018-19 में 3.13 अरब डॉलर की एफडीआई मिली।

भारतीय उद्योग दिग्गजों से मिलेंगे ट्रंप
भारतीय कंपनियों को अमेरिका में निवेश करने के लिए आकर्षित करने के उद्देश्य से राष्ट्रपति ट्रंप 25 फरवरी को भारतीय उद्योग दिग्गजों से मुलाकात करेंगे। ट्रंप से मुलाकात करने वालों में रिलायंस इंडस्ट्री, टाटा संस, भारत फोर्ज, महिंद्रा एंड महिंद्रा,मदरसंस समेत कई औद्योगिक घराने शामिल हैं। 

दुनिया में चीन के बाद भारत अमेरिका का दूसरा सबसे बड़ा व्यापार सहयोगी देश है। दोनों देशों के बीच 2018 में माल व सेवा व्यापार 142.6 बिलियन डॉलर (10.12 लाख करोड़ रुपये) तक पहुंच गया था। अमेरिका का भारत के साथ 2019 में 23.2 बिलियन डॉलर (1.65 लाख करोड़ रुपए) का व्यापार घाटा था।

पिछले साल भारत से छीना था विशेष दर्जा
राष्ट्रपति ट्रंप ने 2019 में भारत से जनरलाइज्ड सिस्टम ऑफ प्रिफरेंसेंज (जीएसपी) का दर्जा छीन लिया था। 1970 के दशक में भारत को यह दर्जा मिला था। अमेरिका ने यह कदम तब उठाया था, जब भारत ने आयात की जाने वाली अमेरिकी मेडिकल डिवाइस, कार्डियक स्टेंट और घुटने के प्रत्यारोपण जैसे उपकरणों पर आयात शुल्क बढ़ा दिया था। साथ ही भारत ने ई-कॉमर्स कंपनियों पर भी प्रतिबंध लागू किया था। अब ट्रंप की 24-25 फरवरी को होने वाली यात्रा से यह उम्मीद जागी है कि भारत द्वारा टैरिफ में कुछ कटौती करने से जीएसपी दर्जा फिर से मिल सकता है।

रॉबर्ट लाइटहाइजर का दौरा रद्द
ट्रंप के दौर से पहले अमेरिकी व्यापार प्रतिनिधि रॉबर्ट लाइटहाइजर का दौरा रद्द हो गया है। वह वाणिज्य मंत्रालय के साथ सीमित व्यापार समझौते पर वार्ता के लिए यहां आने वाले थे। लाइटहाइजर के न आने से ट्रंप की मौजूदगी में इस समझौते पर दस्तखत होने को लेकर भी रुख स्पष्ट नहीं हुआ है। पिछले कुछ हफ्तों में वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल और लाइटहाइजर में टेलीफोन पर कई दौर की बातचीत हो चुकी है।

अमेरिकी राष्ट्रपति के भारत दौरे को यादगार बनाने में गुजरात सरकार कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती है। अहमदाबाद की मेयर बिजल पटेल ने बताया कि 24 फरवरी को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 22 किलोमीटर लंबे रोड शो के दौरान भाजपा कार्यकर्ताओं समेत 50,000 से ज्यादा लोगों के शामिल की उम्मीद है। इसमें  300 संगठनों और गैर सरकारी संगठनों के  स्वंयसेवी भी शामिल होंगे।

इस दौरान अलग-अलग राज्यों से आए लोग पारंपरिक पोशाक धारण करेंगे। उन्होंने कहा कि शायद शहर का यह सबसे लंबा रोड शो हो। अहमदाबाद नगर निगम को मिले रूट प्लान के मुताबिक ट्रंप और मोदी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से सबसे पहले साबरमती आश्रम पहुंचेंगे। इसके बाद हवाई अड्डे के पास बने इंदिरा पुल जरिये एसपी रिंग रोड से मोटेरा में नवनिर्मित क्रिकेट स्टेडियम जायेंगे। स्टेडियम की क्षमता 1.10 लाख लोगों के बैठने की है। यहां दोनों लोगों को संबोधित करेंगे।

सार

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के पहले भारत दौरे पर सीमित व्यापार सौदा हो सकता है। सरकारी सूत्रों के मुताबिक, भारत ने डेयरी उत्पादों, अमेरिकी चिकन लेग, ब्लूबेरीज और चेरी जैसे उत्पादों के आयात का प्रस्ताव रखा है।

विस्तार

चिकन लेग पर टैरिफ (आयात शुल्क) 100% से घटाकर 25% कर दिया गया है लेकिन अमेरिका इसे 10% कराने की कोशिश में है। वहीं, डेयरी उत्पादों के लिए 5% शुल्क और कारोबारी सीमा के साथ भारतीय बाजार खोलने की तैयारी है। हालांकि, सबसे बड़े दुग्ध उत्पादक भारत में डेयरी उत्पादों के आयात पर रोक है, क्योंकि इससे आठ करोड़ ग्रामीण परिवारों की आजीविका जुड़ी है।

सूत्रों ने बताया, सरकार अमेरिकी मोटरसाइकिल कंपनी हार्ले-डेविडसन पर भी आयात शुल्कों पर 50 फीसदी कटौती करने जा रही है। हार्ले पर टैरिफ को लेकर ही ट्रंप ने भारत को ‘टैरिफ किंग’ करार दिया था। आयात शुल्कों में कटौती और अन्य छूट के बाद भारत को उम्मीद है कि अमेरिका विशेष व्यापार दर्जा बहाल कर सकता है, जिसे पिछले साल ट्रंप ने निलंबित कर दिया था। सूत्रों का कहना है कि व्यापार मुद्दे पर दोनों के बीच आई ‘दूरियों’ को ट्रंप के दौरे से पहले मिटाने की कोशिश की जा रही है। एजेंसी

एक-दूसरे से क्या चाहते हैं दोनों देश
आयात शुल्कों में कटौती कर भारत बदले में स्टील और एलुमिनियम उत्पादों पर शुल्कों में छूट चाह रहा है। भारत जीएसपी के तहत निर्यात फायदे की बहाली की उम्मीद भी लगा रहा है। कृषि, ऑटोमोबाइल, ऑटोमोबाइल कंपोनेंट और इंजीनियरिंग क्षेत्र के उत्पादों की अमेरिकी बाजार में अधिक पहुंच की मांग रखी जा रही है। वहीं, अमेरिका भारत में खेती, विनिर्माण, डेयरी उत्पाद, मेडिकल उपकरण और डाटा स्थानीयकरण की बाजार में पहुंच हासिल करना चाहता है। अमेरिका ने व्यापार घाटे को कम करने की मंशा भी जताई है।  

  • अमेरिकी चिकन लेग पर आयात शुल्क घटाकर किया 25%
  • डेयरी उत्पादों पर 5% शुल्क के साथ सीमित आयात का प्रस्ताव
  • हार्ले डेविडसन पर सीमा शुल्क 50% घटाया जा सकता है
  • 08 करोड़ लोग जुड़े हैं डेयरी उद्योग से…इसीलिए आयात पर है रोक
कम हुआ व्यापार घाटा
2018-19 में 52.4 अरब डॉलर का निर्यात तो 35.5 अरब डॉलर का आयात हुआ। 2017-18 में व्यापार घाटा 21.3 अरब डॉलर था, जो 2018-19 में घटकर 16.9 अरब डॉलर हो गया। अमेरिका से 2018-19 में 3.13 अरब डॉलर की एफडीआई मिली।

भारतीय उद्योग दिग्गजों से मिलेंगे ट्रंप
भारतीय कंपनियों को अमेरिका में निवेश करने के लिए आकर्षित करने के उद्देश्य से राष्ट्रपति ट्रंप 25 फरवरी को भारतीय उद्योग दिग्गजों से मुलाकात करेंगे। ट्रंप से मुलाकात करने वालों में रिलायंस इंडस्ट्री, टाटा संस, भारत फोर्ज, महिंद्रा एंड महिंद्रा,मदरसंस समेत कई औद्योगिक घराने शामिल हैं। 


आगे पढ़ें

दूसरा सबसे बड़ा व्यापार सहयोगी भारत…





Source link

What do you think?

Written by Isrt URL

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

Comments

0 comments

Harrison Ford will start filming new Indiana Jones movie sooner than you might think

कहानी उन लोगों की जो नहीं रखते सेक्स करने की इच्छा